प्रमोटेड छात्रों ने दो घंटे तक किया हंगामा, अंदर फंसे रहे कई लोग;

भागलपुर। प्रमोटेड छात्र-छात्राओं ने पार्ट-3 का परीक्षा फॉर्म नहीं भरने देने पर हंगामा खड़ा कर दिया। मंगलवार को छात्रों ने करीब दो घंटे तक विश्वविद्यालय के गेट पर आंदोलन किया। इसके कारण अंदर घुसे छात्रों को बाहर निकलने में परेशानी हुई और दो घंटे तक इंतजार करते रहे। वहीं काम कराने आये छात्र बाहर खड़े रहकर गेट खुलने के इंतजार में वापस लौट गये।

पार्ट-3 के छात्र परीक्षा फॉर्म नहीं भरने देने से पिछले कुछ दिनों से रोज विवि में हंगामा कर रहे हैं। इन्हें पार्ट-1 में प्रमोटेड होने से पार्ट-3 का परीक्षा फॉर्म नहीं भरने दिया जा रहा है। इसी को लेकर मंगलवार को दोपहर करीब 12:30 बजे ये छात्र विवि के मुख्य गेट पर पहुंचे, लेकिन विवि के कर्मचारियों ने गेट अंदर से बंद कर दिया। इससे नाराज छात्र मुख्य गेट के बाहर बैठ गये। वहीं प्रशासनिक भवन के एक अन्य गेट (सीनेट हॉल की तरफ) को भी बंद कर दिया गया। इससे करीब एक घंटे तक छात्र अंदर ही फंसे रहे। इसमें से कई छात्रों की परीक्षा थी, लेकिन अंदर से किसी कर्मचारी द्वारा गेट नहीं खोलने के कारण ये छात्र उग्र हो रहे थे।

बताया गया कि प्रॉक्टर के कहने पर गेट बंद कर दिया गया था। थोड़ी देर बाद प्रॉक्टर कहीं दूसरी जगह से विवि गेट के बाहर पहुंचे। उनके फोन करने के 15 मिनट बाद गेट खोला गया तो कुछ छात्र बाहर निकले। दोबारा गेट पर ताला लगाने से कई अन्य छात्र अंदर फंसे थे, जिन्होंने 112 नंबर पर पुलिस को फोन कर दिया और पुलिस पहुंच गई। पुलिसवालों ने प्रॉक्टर को फोन किया, तब जाकर गेट खोला गया। छात्रों ने कहा कि प्रॉक्टर के द्वारा गेट बंद कराने से उन्हें काफी परेशानी हो रही है। यह समस्या सिर्फ मंगलवार को ही नहीं, बल्कि अन्य दिनों में भी हुआ। इधर आईसा के प्रवीण कुशवाहा के नेतृत्व में आंदोलन कर रहे छात्र करीब दो घंटे वहां रहे। उसके बाद चले गये। इसके बाद विवि का गेट खोला गया।

अभी तक मामले का समाधान नहीं

फॉर्म भरने का इंतजार कर रहे इन छात्रों की परेशानी का अभी तक कोई समाधान नहीं हुआ है। इस कारण पार्ट-3 के ये छात्र आंदोलन कर रहे हैं। इन छात्रों का कहना है कि यदि उन लोगों को फॉर्म नहीं भरने दिया जाएगा तो उन लोगों का एक साल बर्बाद हो जाएगा।

मैं इसमें देखता हूं कि अगले दिन से छात्रों को परेशानी नहीं हो। इसके लिए जो प्रयास हो सकता है किया जाएगा।

डॉ. एसडी झा, प्रॉक्टर, टीएमबीयू