इंटर्न डॉक्टरों ने बंद कराया ओपीडी, बिना इलाज 350 मरीज लौटे;

मानदेय बढ़ाये जाने की मांग को लेकर जेएलएनएमसीएच (मायागंज अस्पताल) के इंटर्न चिकित्सकों ने कार्य बहिष्कार के चौथे दिन भी ओपीडी को ढाई घंटे तक पूरी तरह से ठप कर दिया। इलाज न होने से अस्पताल आए करीब 350 मरीज बिन इलाज वापस लौट गये। डॉक्टरों की इस हड़ताल से आजिज मरीजों-तीमारदारों ने जहां कुछ देर के लिए अस्पताल के मुख्य गेट को ही बंद कर दिया। वहीं इंटर्न चिकित्सकों ने ओपीडी बिल्डिंग के बाहर बैठकर विरोध प्रदर्शन किया। हालांकि राहत की बात यह रही कि सीनियर डॉक्टरों ने रजिस्ट्रेशन न होने की दशा में मरीजों का सादे कागज पर रजिस्ट्रेशन करके इलाज किया।

साढ़े आठ बजे से बंद हुआ ओपीडी, 10:40 बजे से हुआ शुरू

ओपीडी गुरुवार की सुबह आठ बजे खुला और मरीजों का रजिस्ट्रेशन होना शुरू हुआ ही था कि हड़ताली इंटर्न चिकित्सक ओपीडी बिल्डिंग में घुसे और रजिस्ट्रेशन को बंद करा दिया। इसके बाद परेशान मरीज बाहर निकल आए तो अधिकांश डॉक्टरों ने ओपीडी के चैंबर को भी खाली कर दिया। इसके बाद इंटर्न चिकित्सक बाहर निकले और ओपीडी बिल्डिंग के बाहर बैठकर विरोध प्रदर्शन करने लगे। सुबह साढ़े दस बजे तक ओपीडी से लेकर रजिस्ट्रेशन तक का काम बंद रहा। इस दौरान मौके पर पहुंचे अस्पताल अधीक्षक डॉ. असीम कुमार दास ने इंटर्न चिकित्सकों से रजिस्ट्रेशन काउंटर को शुरू कराने को कहा, लेकिन हड़ताली इंटर्न नहीं माने। इसके बाद वे अंदर गये और सीनियर डॉक्टरों को बुलाकर सुबह 10:40 बजे से काम शुरू करा दिया। इस दौरान रजिस्ट्रेशन बंद होने की दशा में चिट्ठा न कटने की समस्या हुई तो सादे कागज पर मरीजों का रजिस्ट्रेशन हुआ और फिर डॉक्टरों ने इलाज करते दवा लिखी।

15 मिनट के लिए बंद हुआ अस्पताल का गेट तो थम गयी प्रशासन की सांसें

इंटर्न चिकित्सकों की हड़ताल के कारण इलाज से वंचित मरीजों एवं तीमारदारों का सब्र गुरुवार की सुबह करीब नौ बजे जवाब दे गया और तत्काल इमरजेंसी वाले अस्पताल के मुख्य गेट को हंगामा करते हुए बंद कर दिया। इस दौरान न तो किसी को बाहर से अस्पताल में आने दिया गया और न ही अंदर के किसी शख्स को बाहर ही जाने दिया। सूचना मिलते ही अस्पताल प्रशासन की सांसें थमने लगी। आनन-फानन में अस्पताल के जिम्मेदार पदाधिकारी व सुरक्षाकर्मी पहुंचे और लोगों को समझाए कि इलाज की व्यवस्था की जा रही है, तब जाकर सुबह 9:15 बजे अस्पताल के मुख्य द्वार को खोला गया।

817 मरीजों का सादे कागज पर रजिस्ट्रेशन करके इलाज

ओपीडी का नाम मरीजों की संख्या

महिला मेडिसिन 101

पुरुष मेडिसिन 45

एआरटी 33

नेत्र ओपीडी 90

दंत ओपीडी 27

शिशु रोग 82

मनोरोग 54

त्वचा एवं रति रोग 115

पीएसएम 16

सर्जरी 49

प्रसव एवं स्त्री रोग 92