परशुराम ठाकुर ब्रह्मवादी (Parashuram Thakur Brahamvadi)

परशुराम ठाकुर ब्रह्मवादी भारत के एक खोजी इतिहासकार, पुरातत्वविद एवं अंगिका भाषा के विद्वान हैं।

परशुराम ठाकुर ने अपने चालीस वर्षों के ऐतिहासिक अनुसंधान कार्य के द्वारा विश्व इतिहास को एक नई दिशा प्रदान की है। भारतीय इतिहास कांग्रेस के सदस्य रह चुके ब्रह्मवादी के अनेकों ग्रंथ प्रकाशित हुए हैं जिनमे सृष्टि का मूल इतिहास, अंगिका भाषा उद्भव और विकास, इतिहास को एक नई दिशा, प्राचीन बिहार की शिक्षा संस्कृति का इतिहास, मूल भाषा विज्ञान , आर्य संस्कृति का उद्भव विकास, विक्रमशिला का इतिहास, आर्यों का मूल क्षेत्र: अंगदेश , मंदार : जहाँ से प्रकट हुई गंगा आदि शामिल है। इन्होंने अपने शोध के द्वारा यह साबित किया है कि सृष्टि का आदि और मूल क्षेत्र अंगदेश ही है, जहाँ से सारी सभ्यता का उद्भव और विकास हुआ। इनके मान्यतानुसार आर्यों का मूल क्षेत्र अंगदेश ही था और यहीं से वो बाहर गये। भारतीय इतिहास कांग्रेस के ६१वें सेमिनार में इन्होनें भारत के प्रसिद्ध इतिहासकार प्रो० रामशरण शर्मा की मान्यताओं पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए सारे प्रमाण के साथ यह साबित किया कि आर्य अंगद…

Read more about परशुराम ठाकुर ब्रह्मवादी (Parashuram Thakur Brahamvadi)
  • 0

अंगिका शब्दकोष (य, र, ल, व, श, ष, स, ह) – Angika Language Dictionary

योजना कोनो काम करे के बिचार काल खेत जोतै के बिचार छै (sem. domains: 6.1.2.5 - योजना.)

रत्‍न n धरती के भीतर मिलै वाला रत्न जेकरा सजवट के लेली ईस्‍तेमाल करलो जाय छै हीरा, रूबी-पत्थल (sem. domains: 1.2.2.5 - रत्न.)

रोपना v केला के खेती मामा केला के खेती करै छै (sem. domains: 6.2.1.4.2 - उगाना)

रसीद काटै वाला (sem. domains: 6.1.1 - कर्मचारी.)

राँड़-मोसमात , टरमुनसा, बेबा, विधुर-विधवा n जे मरदाना के बहु मरी गैलो छै, जे जलानी का मरद मरी गैलो छै, हमरो गामो मॅ तीन गो मोसमात छै। (sem. domains: 4.1.9.3 - विधवा, विधुर.)

रामरस - नमक

रौदा - धूप

रुपिया पैसा लेन देन (sem. domains: 6.8 - अर्थ, वित.)

रोपनी धान रोपना खेत मे फसल लगाना (sem. domains: 6.2.3 - खेत रोपना.)

लकरकट्ट…

Read more about अंगिका शब्दकोष (य, र, ल, व, श, ष, स, ह) – Angika Language Dictionary
  • 0

अंगिका शब्दकोष (च, छ, ज, झ, ञ) – Angika Language Dictionary

चचेरा भाय/बहिन n जे हमरो माँय-बाप के भाय-बहिन के बच्‍चा छेके हमरो ढेरी चचेरा भाय बहिन छै। (sem. domains: 4.1.9.1.7 - चचेरा भाई या बहन.)

चमगुदड़ी n एगो ऐसनो बहुत्‍ते छोटो आपनो बच्‍चा कॅ दूध पिलाय वाली जानवर जे रात के समय मॅ ऊड़ै छै घर के फूस वाला छप्पर मॅ रहै छै, (sem. domains: 1.6.1.1.8 - चमगादड़.)

चमरी 1देह के उपरका भाग (sem. domains: 2.1.4 - त्वचा.) 2हमरो चमरी पतला छै

चमारि जुता बनावे वाला (sem. domains: 6.6.4.3 - चमड़े के साथ काम करना.)

चिड़याँ n ऐसनो जानवर जेकरा दूगो पाँख होय छै आरू ऊड़ै छै, कबूत्तर, कौवा, सुग्‍गा (sem. domains: 1.6.1.2 - पक्षी.)

चिड़ियाँ के अंग n चिड़ियाँ के देह के अंग पाँख, गोड़, लोल (sem. domains: 1.6.2.1 - किसी पक्षी के भाग.)

चिनता करना n इ दुनिया सँ चललो गाइलै रामु इ दुनिय…

Read more about अंगिका शब्दकोष (च, छ, ज, झ, ञ) – Angika Language Dictionary
  • 0

अंगिका शब्दकोष (ट, ठ, ड, ढ, ण, ड़, ढ़) – Angika Language Dictionary

टाका रूपया पैसा टाका (sem. domains: 6.8.6.1 - वितिय इकाई.)

टूवर-टापर n जेकरा माँय-बाप मरी गैलो टूवर-टापर के देखैवाला कोय नै छै (sem. domains: 4.1.9.4 - अनाथ.)

टेबना 1कुछु पायै या करै क जोर लगाना (sem. domains: 6.1.2.1 - कोशिश करना, प्रयास.) 2कुछु पायै या करै क जोर लगाना (sem. domains: 6.1.2.1 - कोशिश करना, प्रयास.)

टेबुल n लकड़ी के बनलो एक समान जेकरा मॅ चार या तीन गोड़ होय छै आरू जेकरा पर कुच्‍छु समान रखॅ सकै छियै घर, स्‍कूल, कॅलेज, ऑफिस मॅ भी टेबुल के ईस्‍तेमाल करलो जाय छै (sem. domains: 5.1.1.1 - मेज़.)

टोकरि,चाटाई बनाना पटिया बानाना (sem. domains: 6.6.4.2 - टोकरी और चटाई बुनना.)

ठक लेन देन मे धोखा देवे वाला (sem. domains: 6.8.9 - वितिय अभ्‍यास में धोखेबाजी.)

ढारना v - पानी अथवा द्रव के बहना, पानी, चाय, ते…

Read more about अंगिका शब्दकोष (ट, ठ, ड, ढ, ण, ड़, ढ़) – Angika Language Dictionary
  • 0

अंगिका शब्दकोष (त, थ, द, ध, न) – Angika Language Dictionary

तरकारी v अल्लु बैगन टमाटर सिनी लगाना हम्मा तरकारी के खेती करबै (sem. domains: 6.2.1.3 - सब्‍जियाँ)

ताकय (sem. domains: 6.1.2.3.4 - शक्ति, क्षमता, अधिकार, सत्ता, प्रभावशाली, विद्युत् शक्ति, घात, बल, जबरदस्ती.)

तागत 1कोनो काम करै के बल (sem. domains: 6.1.2.3.4 - शक्ति, क्षमता, अधिकार, सत्ता, प्रभावशाली, विद्युत् शक्ति, घात, बल, जबरदस्ती.) 2कोनो काम करै के बल (sem. domains: 6.1.2.3.4 - शक्ति, क्षमता, अधिकार, सत्ता, प्रभावशाली, विद्युत् शक्ति, घात, बल, जबरदस्ती.)

थैलीदार जानवर n दूध पिलावै वाल ऐसनो जानवर जेकरा मॅ आपनो बच्‍चा कॅ राखै लेली थैली होय छै कंगारू (sem. domains: 1.6.1.1.5 - मार्सुपियल.)

थोथरी - मुँह

थेथर - जिद्दी

दरमाहा महिना महिना मिलै वाला वेतन (sem. domains: 6.8.4.5 - तनख्वाह, चुकाना (पैसा).)

दवार घोर के बाहर वाला जगह …

Read more about अंगिका शब्दकोष (त, थ, द, ध, न) – Angika Language Dictionary
  • 0

अंगिका शब्दकोष (प, फ, ब, भ, म) – Angika Language Dictionary

पकि सङक जेकरा पर गाडि आरु लोग सब चलै छै (sem. domains: 6.5.4.1 - सड़क.)

पखाना n सन्‍डास सॅ निकलै वाल मल बिहान कॅ सब्‍भे लोग सिनी पखाना जाय छै। (sem. domains: 2.2.8 - मलत्याग करना, मल.)

पाहुना - दामाद

पटाना खेतो मे पानी पटाना नाना खेतो मे पानी पटाबै छै (sem. domains: 6.2.4.3 - सीँचना.)

पड़ोसिया n घरो के बगलो मॅ रहै वाला लोग सिनी रामू हमरो पड़ोसिया छेकै। (sem. domains: 4.1.4 - पड़ोसी.)

पनियाला अथबा पनीवाला n पानीवाला अथबा पनीवाला जीव अथवा पौधा साँप, हाईड्रीला-पौधा, कमल (sem. domains: 1.3.4 - पानी में रहना.)

परखिरहलो छै v वँ परिक्षारो कोपी जाची रहलो छै मोहन परिक्षारो कोपी जाँची रहलो छै (sem. domains: 3.2.2.2 - जाँचना.)

परवीन कला मे परवीन छे (sem. domains: 6.6.5 - कला, कौशल.)

Read more about अंगिका शब्दकोष (प, फ, ब, भ, म) – Angika Language Dictionary
  • 0

अंगिका शब्दकोष (क, ख, ग, घ, ङ) – Angika Language Dictionary

कौरै वाला औजार कोदार खूरपी खंती (sem. domains: 6.7.1.1 - कुरेदने वाले औज़ार.)

कोय चीज कॅ देखै लेली ईस्‍तेमाल होय वाला साधन n जेकरो ईस्‍तेमाल कोय चीज कॅ देकै लेली करलो जाय छै चश्‍मा, दुरबीन, शीशा, (sem. domains: 2.3.1.9 - देखने के लिए उपयोग में आने वाली वस्‍तु.)

कोफी v कोफीके खेती हमरा गाव मे कोफी के खेती नाय होय छै (sem. domains: 6.2.1.7.2 - कोफी )

कोनो चीजो सॅ रोशनी टकराय कॅ वापस लौटना v कोनो चीजो सॅ जैसॅ कि अईना सॅ रोशनी टकराय कॅ वापस लौटना अईना सॅ रोशनी टकराय कॅ हमरो आँखी पर पड़ै छै। (sem. domains: 2.3.1.7 - प्रतिबिंबित करना, दर्पण.)

कचीया n कैंची औजार 

की होळौ - क्या हुआ

कखनी - किस समय

कथी - क्या

कोदार n कुदाल spade

कोठरि पका का घोर (sem. domains: 6.5.2.7 - कमरा.)

केतारी n केतारी रोपना केतारी के खे…

Read more about अंगिका शब्दकोष (क, ख, ग, घ, ङ) – Angika Language Dictionary
  • 0

अंगिका शब्दकोष (अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऎ, ऒ, औ) – Angika Language Dictionary

अस्‍नेही₂ n जेकरो कोय दोस्‍त नै हुवॅ ई गाँव मॅ हमरो कोय दोस्‍त नै छै। (sem. domains: 6.1.2.2 - प्रयोग, सेवन, आवश्यकता, लाभ.)

असकतिया आलसी चाचा बरा आलसी छै (sem. domains: 6.1.2.4.2 - आलसी.)

अवाज n कोय स्‍वर, शव्‍द गाना, चिल्लाहट, पुकार (sem. domains: 2.3.2.2 - ध्वनि.)

अपनो मँ खोय गेलयै v वँ अपनो मँ खोयगेलयै रोहान अपनो मँ खोयगेलै (sem. domains: 3.2.1.1 - किसी के बारे में सोचना.)

अन्‍धड़-तूफान n खुब्‍भे जोर सॅ बहै वाला हवा सावन-भादो के महिना मॅ अन्‍धड़-तूफान अईतै रहै छै (sem. domains: 1.1.3.5 - आंधी.)

अजाद a जोन आदमी पर केकरो अधिन मॅ नै हुवे जोहन अजाद आदमी छै। (sem. domains: 4.1.6.4 - स्वतंत्र)

आल्लु n अल्लु रोपना हम्मा दु बिघा अल्लु लगैबै (sem. domains: 6.2.1.2.1 - आलू

अ…

Read more about अंगिका शब्दकोष (अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऎ, ऒ, औ) – Angika Language Dictionary
  • 0

अंगिका होली लोक गीत – 2022- २ – Angika Holi Lok Geet

अंगिका होली लोक गीत – 2022 – २ : Angika Holi Lok Geet

भागलपुर जिले के गोपालपुर प्रखंड के लपटोलिआ गांव में आज में अंग संस्कृति की जड़ें बहुत मजबूत हैं. पॉप, रॉक एंड हिप हॉप के ज़माने में आज भी वहां के लोग पारम्परिक होली के अंगिका भाषा में गीत गाकर होली त्यौहार का मधुर समां बाँध देते हैं. 

हमारी अंग संस्कृति को जिन्दा रखने और आगे बढ़ाने के लिए इनके हम हमेशा ऋणी रहेंगे !  

https://youtu.be/Hw8Wfz18QkE

अंगिका होली लोक गीत - 2022- २ - Angika Holi Lok Geet

अंगदेश.कॉम, ‘अंगदेश’ क्षेत्र की संस्कृति, भाषा, इतिहास, व्यंजनों, त्योहारों, पर्यटन आदि का प्रतिनिधित्व करती है और बढ़ावा देती है. अंगदेश.कॉम, अंगदेश की इस प्राचीन सभ्यता और संस्कृति को एक जगह सहेजकर इसे फिर से विश्वभर में पहुँचाने का एक प्रयास भर है. 

अगर आप किसी भी स्वरुप में हमारे इस प्रयास में आप अपनी भागेदारी करना चाहते हैं तो आप सादर आमंत्रित हैं| आपका सहयोग मिले, तो हम फिर से अपनी हजारों साल पुरानी अंगदेश की गौरवान्वित सभय्ता को पुनर्जिवित कर सकते हैं |

Read more about अंगिका होली लोक गीत – 2022- २ – Angika Holi Lok Geet
  • 0

अंगिका होली लोक गीत – 2022- ३ – Angika Holi Lok Geet

अंगिका होली लोक गीत – 2022 – ३

भागलपुर जिले के गोपालपुर प्रखंड के लपटोलिआ गांव में आज में अंग संस्कृति की जड़ें बहुत मजबूत हैं. पॉप, रॉक एंड हिप हॉप के ज़माने में आज भी वहां के लोग पारम्परिक होली के अंगिका भाषा में गीत गाकर होली त्यौहार का मधुर समां बाँध देते हैं. 

हमारी अंग संस्कृति को जिन्दा रखने और आगे बढ़ाने के लिए इनके हम हमेशा ऋणी रहेंगे ! 

https://youtu.be/VUjHyioqc7U

अंगिका होली लोक गीत - 2022- ३ - Angika Holi Lok Geet 

अंगदेश.कॉम, ‘अंगदेश’ क्षेत्र की संस्कृति, भाषा, इतिहास, व्यंजनों, त्योहारों, पर्यटन आदि का प्रतिनिधित्व करती है और बढ़ावा देती है. 

अंगदेश.कॉम, अंगदेश की इस प्राचीन सभ्यता और संस्कृति को एक जगह सहेजकर इसे फिर से विश्वभर में पहुँचाने का एक प्रयास भर है. अगर आप किसी भी स्वरुप में हमारे इस प्रयास में आप अपनी भागेदारी करना चाहते हैं तो आप सादर आमंत्रित हैं| आपका सहयोग मिले, तो हम फिर से अपनी हजारों साल पुरानी अंगदेश की गौरवान्वित सभय्ता को पुनर्जिवित कर सकते हैं |

Read more about अंगिका होली लोक गीत – 2022- ३ – Angika Holi Lok Geet
  • 0

अंगिका होली लोक गीत – 2022 – ४ – Angika Holi Lok Geet

अंगिका होली लोक गीत – 2022 – ४ : Angika Holi Lok Geet 

भागलपुर जिले के गोपालपुर प्रखंड के लपटोलिआ गांव में आज में अंग संस्कृति की जड़ें बहुत मजबूत हैं. पॉप, रॉक एंड हिप हॉप के ज़माने में आज भी वहां के लोग पारम्परिक होली के अंगिका भाषा में गीत गाकर होली त्यौहार का मधुर समां बाँध देते हैं. 

हमारी अंग संस्कृति को जिन्दा रखने और आगे बढ़ाने के लिए इनके हम हमेशा ऋणी रहेंगे ! 

https://youtu.be/oDp_sez_ops

अंगिका होली लोक गीत – 2022 – ४ Angika Holi Lok Geet 

अंगदेश.कॉम, ‘अंगदेश’ क्षेत्र की संस्कृति, भाषा, इतिहास, व्यंजनों, त्योहारों, पर्यटन आदि का प्रतिनिधित्व करती है और बढ़ावा देती है.  

अंगदेश.कॉम, अंगदेश की इस प्राचीन सभ्यता और संस्कृति को एक जगह सहेजकर इसे फिर से विश्वभर में पहुँचाने का एक प्रयास भर है. अगर आप किसी भी स्वरुप में हमारे इस प्रयास में आप अपनी भागेदारी करना चाहते हैं तो आप सादर आमंत्रित हैं| आपका सहयोग मिले, तो हम फिर से अपनी हजारों साल पुरानी अंगदेश की गौरवान्वित सभय्ता को पुनर्जिवित कर सकते हैं |

Read more about अंगिका होली लोक गीत – 2022 – ४ – Angika Holi Lok Geet
  • 0

अंगिका होली लोक गीत – 2022 – १ – Angika Holi Lok Geet

https://youtu.be/nEaQDLLWTDg अंगिका होली लोक गीत - 2022 - १ - Angika Holi Lok Geet  भागलपुर जिले के गोपालपुर प्रखंड के लपटोलिआ गांव में आज में अंग संस्कृति की जड़ें बहुत मजबूत हैं. पॉप, रॉक एंड हिप हॉप के ज़माने में आज भी वहां के लोग पारम्परिक होली के अंगिका भाषा में गीत गाकर होली त्यौहार का मधुर समां बाँध देते हैं. हमारी अंग संस्कृति को जिन्दा रखने और आगे बढ़ाने के लिए इनके हम हमेशा ऋणी रहेंगे !  अंगदेश.कॉम, ‘अंगदेश’ क्षेत्र की संस्कृति, भाषा, इतिहास, व्यंजनों, त्योहारों, पर्यटन आदि का प्रतिनिधित्व करती है और बढ़ावा देती है. अंगदेश.कॉम, अंगदेश की इस प्राचीन सभ्यता और संस्कृति को एक जगह सहेजकर इसे फिर से विश्वभर में पहुँचाने का एक प्रयास भर है. अगर आप किसी भी स्वरुप में हमारे इस प्रयास में आप अपनी भागेदारी करना चाहते हैं तो आप सादर आमंत्रित हैं| आपका सहयोग मिले, तो हम फिर से अपनी हजारों साल पुरानी अंगदेश की गौरवान्वित सभय्ता को पुनर्जिवित कर सकते हैं |
Read more about अंगिका होली लोक गीत – 2022 – १ – Angika Holi Lok Geet
  • 0

अंगिका में प्रकाशित पुस्तकें – Angika Books

 

नीचे अंगिका भाषा एवं साहित्य से जुड़ी कुछ पुस्तकों की सूची है|

अगर आप एक लेखक और कवि हैं, और अपनी पुस्तक का विवरण इस पेज पर चाहते हैं तो हमें इसके बारे में जानकारी देने के लिए [email protected] पर ईमेल भेज सकते हैं या ९८८००२७४४३ पर फोन कर सकते हैं.

/*! elementor - v3.5.6 - 28-02-2022 */ .elementor-widget-image{text-align:center}.elementor-widget-image a{display:inline-block}.elementor-widget-image a img[src$=".svg"]{width:48px}.elementor-widget-image img{vertical-align:middle;display:inline-block} …
Read more about अंगिका में प्रकाशित पुस्तकें – Angika Books
  • 0

अंगिका भाषा एवं साहित्य का इतिहास – History of Angika Language & Literature – by Jasim Uddin

Angika is a language of the Anga region of India, a 58,000 km² area that falls within the states of Bihar, Jharkhand and Bengal

Angika Literature dates back to at least the 7th century and may be divided into three main periods:ancient,medieval, andmodern.

The different periods may be dated as follows: ancient period from 650-1200, medieval period from 1200-1800, and the modern period from 1800 to the present. The medieval period may again be divided into three periods: early medieval-also known as the period of transition- from 1200-1350; high medieval from 1350-1700, including the pre-Chaitanya period from 1350-1500 and the Chaitanya period from 1500-1700; and late medieval from 1700-1800. The modern period begins in 1800 and can again be divided into six phases: the era of prose from 1800-1860, the era of development from 1860-1900, the phase of rabindranath tagore (1861-1941) from 1890-1930, the post-Rabindranath phase from 1930 to 1947, t…

Read more about अंगिका भाषा एवं साहित्य का इतिहास – History of Angika Language & Literature – by Jasim Uddin
  • 0

अंगिका नाट्य साहित्य (Angika Literature – Angika Plays)

सर्वोदय समाज (डा. चकोर) सौर सुरमि (डा. तेजनारायण कुशवाहा) पंचगव्य (डा0 अमरेन्द्र) फैरछॊ (कुन्दन अमिताभ) तीरथ जतरा (श्री उमेश) किसान क’ जगाबॊ, लहुऔ सें महगॊ सिनूर (बैकुण्ठ बिहारी) बहिष्कार (हीरा प्रसाद हरेन्द्र) समाज सुधार (श्रीकान्त व्यास) ध्दौतांगिनी (कनकलाल चैधरी कणीक)
Read more about अंगिका नाट्य साहित्य (Angika Literature – Angika Plays)
  • 0

अंगिका आलोचना, निबंध एवं शोध साहित्य

‘अंगिका गाथा काव्य में गीति तत्व’ (डा0 सरिता सुहावनी) कोया से बाहर आवॊ (कुन्दन अमिताभ) छन्द मौनी, छनद हौनी, गजल रॊ पिंगले (सभी डा0 अमरेन्द्र) कबीर हंस दर्शन – छोटेलाल मंडल, समीक्षात्मक निबंध (डा0 डोमन साहु समीर) संस्कृति सुमन (डा0 चकोर) अंगिका काव्यांग (सुमन सूरो) अंगमाधुरी आरो चकोर (डा0 शिवनारायण)
Read more about अंगिका आलोचना, निबंध एवं शोध साहित्य
  • 0

अंगिका उपन्यास

नया सूरज नया चान (अनुपलाल मंडल) विशाखा (डा0 चकोर) जटायु (डा0 अमरेन्द्र) शुभद्राँगी (सुमन सूरो) परबतिया, अन्तहीन, वैतरणी, गुलबिया (सभी आभा पूर्वे) तुलसी मंजरी (श्रीकेशव) छाहुर (अनिरूध्द प्रभास)
Read more about अंगिका उपन्यास
  • 0

अंगिका इतिहास साहित्य – Angika History Literature

अंगिका साहित्य का इतिहास (डा0 अभयकान्त चैधरी एवं डा0 चकोर) अंगिका भाषा का इतिहास (डा0 तेजनारायण कुशवाहा) अंग और अंगिका के अन्र्तराष्ट्रीय आयाम (कुन्दन अमिताभ) अंगिका साहित्य रॊ इतिहास (डा0 डोमन साहु समीर डा0 कुशवाहा, डा0अमरेन्द्र) अंगिका भाषा आरो साहित्य (सुमन सूरो) अंगिका पत्रकारिता रॊ इतिहास (डा0 मधुसूदन झा)
Read more about अंगिका इतिहास साहित्य – Angika History Literature
  • 0

अंगिका जीवनी एवं यात्रा वृतांत साहित्य (Angika Literature – Angika Biography and Journey)

हमरॊ जीवन के हिलकोर (डा0 अभयकांत चैधरी) मलिनी के संस्मरण (विकास पाण्डेय) आध्यात्मिक आरो साहित्यिक जतरा (डा0 नरेश पाण्डेय चकोर) चकोर आरो हुनकॊ साहित्य साधना (डा0 तेजनारायण कुशवाहा) गणनायक केरॊ देश में, ‘अंगिका के आदि कवि : सरह’ (सभी कुन्दन अमिताभ) ऐंगन्है में अतीत (डा0 मृदुला शुक्ला) नैहरा के ओलती आरो ऐंगना (जीवनलता पूर्वे)
Read more about अंगिका जीवनी एवं यात्रा वृतांत साहित्य (Angika Literature – Angika Biography and Journey)
  • 0

अंगिका पत्र-पत्रिकायें (Angika Magazines)

अंगिका भाषा में फिलहाल पच्चीस से भी अधिक पत्र-पत्रिकायें प्रकाशित हो रही है. इनमें मासिक पत्रिका ‘अंगमाधुरी’ सर्वाधिक महत्वपूर्ण है, जो पिछले पैंतीस वर्ष से नियमित प्रकाशित हो रही है. इसके सम्पादक हैं – डा0 नरेश पांडेय चकोर.

अंगमाधुरी - डा0 नरेश पांडेय चकोर (सम्पादक)

अंगिका -  डा0 परमानन्द पांडेय (सम्पादक)

आंगी - डा0 अमरेन्द्र (सम्पादक)

उत्तरांगी - चन्द्र प्रकाश जगप्रिय (सम्पादक)

पुरबा - सुधाकर (सम्पादक)

चम्पा, अंगिकांचल - डा0 आत्मविश्वास (सम्पादक)

कात्यायनी - कैलाश झा किंकर (सम्पादक)

अंग तरंगिनी - परशुराम ठाकूर ब्रहमवादी (सम्पादक)

अंग धात्री - कुमार संभव (सम्पादक)

अंग गौरव - प्रदीप प्रभात (सम्पादक)

/*! elementor - v3.5.6 - 28-02-2022 */ .elementor-widget-image{text-align:center}.elementor-widget-image a{display:inline-block}.elementor-widget-image a img[src$=".svg"]{width:48px}.elementor-widget-image img{vertical-align:middle;display:inline-block} …
Read more about अंगिका पत्र-पत्रिकायें (Angika Magazines)
  • 0