ग्राउंड रिपोर्ट : अधूरे निर्माण, बड़े वादे पूरे होने का इंतजार

बेगूसराय ने राजनीति के कई रंग देखे. कभी इसकी पहचान लेनिनग्राद के रूप में हुआ करती थी. धीरे-धीरे दूसरे दलों ने यहां अपनी पैठ बढ़ायी. झंडों के रंग अलग-अलग दिखते गये, बेगूसराय भी खड़ा नहीं रहा. वह भी कुछ बढ़ा, लेकिन उस गति से नहीं, जिस गति से राजनीति के रंग बदले. बेगूसराय एक बार फिर चुनाव के लिए तैयार
Source: Begusarai News