परशुराम ठाकुर ब्रह्मवादी (Parashuram Thakur Brahamvadi)

परशुराम ठाकुर ब्रह्मवादी भारत के एक खोजी इतिहासकार, पुरातत्वविद एवं अंगिका भाषा के विद्वान हैं।

परशुराम ठाकुर ने अपने चालीस वर्षों के ऐतिहासिक अनुसंधान कार्य के द्वारा विश्व इतिहास को एक नई दिशा प्रदान की है। भारतीय इतिहास कांग्रेस के सदस्य रह चुके ब्रह्मवादी के अनेकों ग्रंथ प्रकाशित हुए हैं जिनमे सृष्टि का मूल इतिहासअंगिका भाषा उद्भव और विकासइतिहास को एक नई दिशाप्राचीन बिहार की शिक्षा संस्कृति का इतिहासमूल भाषा विज्ञान , आर्य संस्कृति का उद्भव विकास, विक्रमशिला का इतिहास, आर्यों का मूल क्षेत्र: अंगदेश , मंदार : जहाँ से प्रकट हुई गंगा आदि शामिल है। इन्होंने अपने शोध के द्वारा यह साबित किया है कि सृष्टि का आदि और मूल क्षेत्र अंगदेश ही है, जहाँ से सारी सभ्यता का उद्भव और विकास हुआ। इनके मान्यतानुसार आर्यों का मूल क्षेत्र अंगदेश ही था और यहीं से वो बाहर गये। भारतीय इतिहास कांग्रेस के ६१वें सेमिनार में इन्होनें भारत के प्रसिद्ध इतिहासकार प्रो० रामशरण शर्मा की मान्यताओं पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए सारे प्रमाण के साथ यह साबित किया कि आर्य अंगदेश के ही मूल निवासी थे और उनकी मूलभाषा अंगिका ही थी। ब्रह्मवादी की कुछ पुस्तकें लाईब्रेरी ऑफ कांग्रेस, अमेरिका में शामिल है।

सद्स्य- भारतीय इतिहास कांग्रेस , नई दिल्ली । लाईब्रेरी अॉफ कांग्रेस , अमेरिका ।

प्रकाशित ग्रंथ:

सृष्टि का मूल इतिहास (1996)
इतिहास को एक नई दिशा(2001)
अंगिका भाषा: उदभव और विकास (1994-95)
प्राचीन बिहार की शिक्षा संस्कृति का इतिहास (2008)
मूल भाषा विज्ञान -वेदों की भाषा और लिपि(2009)
आर्य संस्कृति का उदगम एवम विकास (2012)
विक्रमशिला का इतिहास (2013)
आर्यो का मूल क्षेत्र: अंगदेश (2014-2015)
मंदार: जहाँ से प्रकट हुई गंगा(2015)

मौलिक खोज:

आर्यो का मूल स्थान
वेदो की निर्माणस्थली
सरस्वती नदी की खोज
रावण की लंका की खोज
मूल द्वारिका की खोज
आदि सृष्टि का मूल क्षेत्र

नोट:- राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय स्तर के समाचार पत्रो एवं पत्रिकाओ में सैकडो शोध मान्यताएँ प्रकाशित ।