बाढ़ का पानी खेतों में लगे फसलों में घुसा ;

गंगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि के बाद सबौर प्रखंड क्षेत्र के बाबूपुर से लेकर शंकरपुर तक गंगा का बाढ़ का पानी फैल चुका है। सौ एकड़ में लगे फसल व हरी सब्जी डूब कर बर्बाद हो गई।हाल ही में आए बाढ़ का पानी उतरने के बाद किसानों ने अपने खेतों में बैगन, टमाटर, करेला, कद्दू सहित अन्य फसल की बुवाई रोपाई शुरू की थी। लेकिन विगत एक सप्ताह से गंगा के जलस्तर में काफी तेजी से वृद्धि होने लगी। किसानों के खेतों में पानी घुस गया जिससे खेतों में लगे फसल डूब कर नष्ट हो गया। गंगा के जलस्तर में वृद्धि के बाद क्षेत्र के रजंदीपुर, संतनगर, बगडेर, इंग्लिश, घोषपुर, फरका, शंकरपुर सहित अन्य जगहों पर गंगा किनारे बसे गांव में लोगों के घरों में पानी घुसना शुरू हो गया है। लोग अपने पशु सहित अन्य समान को लेकर ऊंचे स्थानों पर जा रहे हैं। वहीं बाढ़ का पानी खानकित्ता व हढवा और रजंदीपुर चंदेरी बहियार में फैल चुका है। प्रखंड के दक्षिणी क्षेत्र के गांव में भी घुसना शुरू हो गया है। प्रखंड क्षेत्र के किसान रुपेश कुमार, कैलाश मंडल, अशोक मंडल, गणपत मंडल, लोचाय मंडल, राधे, सुनील मंडल सहित दर्जनों किसानों ने बताया कि ठेका पर कर्ज लेकर खेतों में हरी सब्जी लगाई थी जो डूब गई। इस संबंध में जीओ अजीत कुमार झा ने कहा कि फसल डूबने की जांच की जाएगी जो भी सरकार के द्वारा निर्धारित अनुदान की राशि तय होगी दिया जाएगा।