मरम्मत की राशि नहीं देने के कारण आरसीडी ने रोका पाइपलाइन का काम;

पथ निर्माण विभाग ने आदमपुर मानिक सरकार रोड पर पाइपलाइन बिछाने के काम को रोक दिया है। पथ निर्माण विभाग ने सड़क की मरम्मत के लिए लगभग 10 करोड़ रुएप का एस्टीमेट बुडको के कार्यपालक अभियंता को भेजा है। कहा है कि पहले मरम्मत के लिए राशि ट्रांसफर कर दें इसके बाद ही काम को आगे बढ़ाएं। इस बीच वहां काम करने वाले मजदूरों का सामान आदि भी पथ निर्माण विभाग ने जब्त कर लिया है। नतीजा यह है कि आधे दूरी तक सड़क काटी हुई है और उसपर ढलाई का बड़ा बड़ा बोल्डर है। पाइपलाइन का काम आगे भी नहीं बढ़ रहा है और जो सड़क काट दी गई है उसकी भी मरम्मत नहीं हो रही है। बुडको के कार्यपालक अभियंता एनएन मिश्रा का कहना है कि राशि के लिए विभाग को मांग पत्र भेजा गया है। लेकिन सामान्य तौर पर विभाग से राशि तभी उपलब्ध करायी जाती है जब संवेदक का बिल आता है। अब आदमपुर रोड सहित कुछ अन्य सड़कों पर पाइपलाइन का काम रुका हुआ है। एजेंसी संसाधनों के साथ तैयार है लेकिन काम नहीं हो पा रहा है। आरसीडी ने काम रोक दिया है। बता दें कि बुडको ने पूर्व में सड़कों की मरम्मत के लिए दो किस्तों में क्रमश: 8 करोड़ और 3 करोड़ रुपए आरसीडी को उपलब्ध कराया था। अभी उस राशि से सड़क मरम्मत का काम भी पूरा नहीं हुआ है। बुडको के कार्यपालक अभियंता पूर्व में दी गई राशि की उपयोगिता पत्र उपलब्ध कराने के लिए भी पत्र दिया है जो अभी तक अप्राप्त है। इस बार आरसीडी ने सड़क मरम्मत के लिए जो एस्टीमेट दिया है उसमें मैन्युअल काम का विवरण है। इसके कारण एस्टीमेट की राशि अधिक हो रही है। बुडको के इंजीनियर का कहना है कि जहां आधुनिक संसाधनों से काम कराया जा सकता है वहां राशि कम होगी। इसलिए एस्टीमेट में भी सुधार कर दें। बहरहाल विभागीय तालमेल के अभाव में जनता को परेशानी हो रही है। न पाइपलाइन का काम आगे बढ़ रहा है न ही सड़क की मरम्मत हो रही है। सड़क कटी होने के कारण इस रास्ते से वाहनों को आने जाने में काफी परेशानी हो रही है। सड़क किनारे जिनका घर है उन्हें अपने घर में वाहन ले जाने में भी परेशानी हो रही है।