मरीजों को हो रही है दिक्कत:ओपीडी में नहीं हो रहा अल्ट्रासाउंड, दो दिन में 120 मरीज लौटे;

मायागंज अस्पताल के ओपीडी में अल्ट्रासाउंड सेंटर बुधवार काे भी बंद रहा। इससे इंडाेर में जांच कराने वाले मरीजाें का दबाव बढ़ गया। जहां हर दिन 100 मरीजाें की जांच की जाती थी, मंगलवार काे 130 व बुधवार काे भी साै से ज्यादा मरीजाें की जांच की गयी। वहीं दाे दिनाें के अंदर 120 से ज्यादा मरीजाें काे यह कहते हुए लाैटा दिया कि अगले दिन आइए ताे जांच की जाएगी। दरअसल ओपीडी स्थित अल्ट्रासाउंड सेंटर में रेडियाेलाॅजिस्ट की जगह पर साेनाेलाॅजिस्ट काम कर रहे थे। जिसके लिए अस्पताल प्रबंधन ने एजेंसी काे पत्र लिखकर कहा कि रेडियाेलाॅजिस्ट से ही जांच कराएं।

इस बीच शनिवार काे अचानक मिले पत्र के बाद एक दिन साेमवार काे ताे जांच करायी गयी, लेकिन मंगलवार काे एजेंसी ने सेंटर बंद कर दिया। बुधवार काे एजेंसी ने सेंटर पर नाेटिस भी चिपका दिया कि डाॅक्टर के बाहर जाने के कारण ओपीडी का अल्ट्रासाउंड जांच कुछ दिनाें के लिए बंद रहेगा। इसके बाद यहां आए मरीज वापस लाैट गए। इंडाेर स्थित रेडियाेलाॅजी विभाग के प्रभारी एचओडी डाॅ. सचिन ने बताया कि ओपीडी में सेंटर बंद हाेने से पूरा लाेड इंडाेर में शिफ्ट हाे गया, इससे 120 से ज्यादा मरीजाें काे वापस लाैटाना पड़ा। क्याेंकि यहां छात्राें की पढ़ाई के अलावा मेडिकाे लीगल व अन्य इमरजेंसी, इंडाेर व कुछ ओपीडी के भी महत्वपूर्ण जांच किए जाते हैं। एजेंसी संचालक सुजीत कुमार ने बताया कि रेडियाेलाॅजिस्ट की तैनाती करने के बाद चालू करेंगे।

डाॅक्टर के पास रेडियोलॉजिस्ट नहीं, एमबीबीएस की है डिग्री

जानकारी के अनुसार, एजेंसी को मरीजों का अल्ट्रासाउंड जांच रेडियोलॉजिस्ट से कराना था। लेकिन एक मार्च को जब सेंटर दाेबारा शुरू हुआ तो जांच की कमान डॉ. प्रमोद कुमार को दी गयी। अस्पताल प्रशासन ने जब डॉ. प्रमोद के कागजाताें की जांच की तो पता चला कि वह रेडियोलॉजिस्ट नहीं बल्कि एमबीबीएस हैं। उनकी ओर से दिए प्रमाण पत्र में जनवरी 2019 से जून 2019 के बीच हेल्थ केयर डायग्नोस्टिक सेंटर कोलकाता से अल्ट्रासाउंड इमेजिंग टेक्निक की ट्रेनिंग लेना बताया गया है।

जब इस मामले की जांच हुई तो पता चला कि इसी दौरान वह मायागंज अस्पताल के ईएनटी विभाग में जूनियर रेजीडेंट के ताैर पर काम करते थे। इसके बाद अस्पताल अधीक्षक ने डॉ. प्रमोद से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह इस अवधि में वह रविवार को साप्ताहिक छुट्टी में कोलकाता ट्रेनिंग लेने के लिए जाते थे।

इस मसले पर करेंगे बैठक

एजेंसी से कुछ कागजात काे लेकर जानकारी मांगे थे कि तय मानक के अनुसार ही जांच करें। संभव है कि इसलिए बंद किया हाेगा। मरीज का इलाज करना है ताे तय मानक से ही करना हाेगा। गुरुवार काे एचओडी के साथ इस मामले पर बैठक करेंगे। -डाॅ. उदय नारायण सिंह, अधीक्षक, जेएलएनएमसीएच