शहर में सीएनजी संचालित नगर बस सेवा चलाने की तैयारी;

भागलपुर शहरी क्षेत्र में सीएनजी से संचालित नगर बस सेवा चलाने की तैयारी शुरू हो गयी है। राज्य पथ परिवहन निगम के प्रस्ताव पर प्रमंडलीय आयुक्त दयानिधान पांडेय ने नगर आयुक्त को पहल करने को कहा है। पथ परिवहन विभाग ने प्रमंडलीय आयुक्त को प्रस्ताव भेजकर स्मार्ट सिटी योजना से नगर बस परिचालन के लिए राशि आवंटित करने का आग्रह किया था।

मंगलवार को प्रमंडलीय आयुक्त की अध्यक्षता में क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार की बैठक हुई। बैठक में पथ परिवहन निगम के प्रस्ताव पर भी चर्चा हुई। प्राधिकार के सचिव मो. वारिस खान ने बताया कि बैठक में उपस्थित राज्य पथ परिवहन निगम भागलपुर प्रमंडल के क्षेत्रीय प्रबंधक पवन कुमार शाण्डिल ने नगर बस सेवा परिचालन को लेकर चर्चा की। इसके अलावा स्मार्ट सिटी से तिलकामांझी डिपो की चहारदीवारी बनवाने का आग्रह किया। प्रस्ताव नगर आयुक्त को भेजा गया है। उनको पहल करने का निर्देश दिया गया है।

सीएनजी बस चलने से जाम से मिलेगी राहत

राज्य पथ परिवहन निगम भागलपुर प्रमंडल के क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया कि स्मार्ट सिटी के लोगों को स्मार्ट सुविधायें मिलनी चाहिए। सीएनजी संचालित नगर बस सेवा शुरू होने से जाम की समस्या से राहत मिलेगी। प्रदूषण मुक्त होगा और लोगों को किराया भी आधा देना पड़ेगा। प्रशासन के सहयोग से बस मिल जाए तो परिचालन शुरू किया जाएगा। क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार के सचिव ने बताया कि सभी बसों में परमिट की संख्या, परमिट की वैधता की अवधि, बैठने की क्षमता, महिला सहित अन्य की आरक्षित सीटों की संख्या आदि को प्रदर्शित करना होगा। 101 बसों की सूची भागलपुर और बांका डीटीओ को दी गई थी। 28 बसों की सूची राज्य पथ परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक को भेजकर जांच करने को कहा गया है। बसों पर इसे प्रदर्शित नहीं करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। दूसरे राज्य या जिलों से आने वाली बसों की भी जांच करते हुए कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।

शहरी क्षेत्र में चल रहे टेम्पो के परमिट की होगी नियमित जांच

शहरी क्षेत्र में चल रहे टेम्पो के परमिट की नियमित जांच करने का निर्देश डीटीओ को दिया गया। बताया गया कि काफी संख्या में टेम्पो का परिचालन हो रहा है। सचिव ने बताया कि बैठक में 18 बसों को परमिट देने का प्रस्ताव आया था। छह पुराने मॉडल की बसों के फिटनेस और प्रदूषण की जांच करने का निर्देश डीटीओ को दिया गया था। जांच प्रतिवेदन प्राप्त हो गया है। 18 में से 13 बसों का परमिट स्वीकृत किया गया। बचे आवेदनों में कुछ में फिर आवेदन देने और कुछ को अगली बैठक में रखने का निर्णय लिया गया। दो परमिट को सरेंडर करने की स्वीकृति दी गयी। इसके अलावा चार काउंटर हस्ताक्षर को भी स्वीकृत किया गया। बैठक में एडीएम शिव कुमार शैव के अलावा भागलपुर और बांका के डीटीओ आदि उपस्थित थे।