शाम से शहर की बिजली आधी, अधिकांश इलाकों में ब्लैक आउट;

शहर में बुधवार की शाम को भीषण बिजली संकट की स्थिति आ गई। शाम 7 बजे से भागलपुर के सबौर ग्रिड को स्टेट सीएलडी से 85 मेगावाट की जगह महज 40 मेगावाट बिजली मिल रही थी। इसके पहले भी तीन घंटे तक आपूर्ति कम होने की वजह से लोडशेडिंग होता रहा। वहीं नाथनगर से तातारपुर तक दिन में 11.30 बजे से शाम 4.30 बजे तक बिजली आपूर्ति पूरी तरह से ठप रही। क्योंकि सुल्तानगंज ग्रिड से नाथनगर सबस्टेशन तक आने वाली 33 केवीए लाइन में ब्रेकडाउन हो गया था। मरम्मत करने में पांच घंटे लग गए। इस दौरान भीषण गर्मी में लोग परेशान रहे।

सबौर ग्रिड को स्टेट सीएलडी से शाम के 4 बजे से ही कम बिजली दी जा रही थी। पहले 20 से 25 मेगावाट की कटौती की गई थी लेकिन शाम के 7 बजे तक स्थिति और खराब हो गई और 85 मेगावाट की जगह महज 40 मेगावाट बिजली दी गई। यह स्थिति रात के 10 बजे तक जारी थी। नतीजा यह रहा कि सभी सबस्टेशनों के आधे फीडर लोडशेडिंग पर रख दिए गए। एक-एक घंटे के रोटेशन पर अलग-अलग फीडरों को बिजली दी जा रही थी। इस दौरान मिरजानहाट, नाथनगर, जीरोमाइल, हॉस्पिटल फीडर, मायागंज, तातारपुर, चंपानगर, नाथनगर, विक्रमशिला, डीएम ऑफिस, नगर निगम, बरारी, आदमपुर, नयाबाजार, घंटाघर आदि सभी फीडरों में लोडशेडिंग हुआ। शाम के 7 बजे के बाद स्थिति यह थी पूरे दक्षिणी क्षेत्र में अंधेरा छाया था। क्योंकि अलीगंज के 33 केवीए भागलपुर 2 फीडर को ही बिजली आपूर्ति रोक दी गई थी। दक्षिणी क्षेत्र के अधिकांश हिस्से में इसी फीडर से बिजली दी जाती है। इधर शहर के रिहायसी इलाके तिलकामांझी, सुरखीकल, आदमपुर, कटहलबाड़ी, आनंदगढ़ कालोनी आदि जगहों पर भी बिजली की कटौती का सामना करना पड़ा। परेशान हाल लोग बिजली कंपनी के कॉल सेंटर में फोन करते रहे। लेकिन लोगों को कोई जवाब नहीं मिला। कॉल सेंटर में फोन इतना आ रहा था कि कई लोगों का फोन भी नहीं लगा।

गर्मी में परेशान रहे बच्चे, पढ़ाई बाधित

बुधवार को बिजली संकट के कारण गर्मी में बच्चे भी परेशान रहे। शाम में बच्चों की पढ़ाई बाधित हो गई। अभी कई स्कूलों में परीक्षा चल रही है और बच्चे पढ़ाई नहीं कर पाए। इशाकचक के ब्रजकिशोर मिश्रा ने बताया कि बिजली की लगातार कटौती के कारण इंवर्टर बैट्री भी फेल हो गया है। दिन में भी कई बार बिजली कटी। इधर तिलकामांझी के हंसल सिंह ने बताया कि शाम के बाद बिजली आपूर्ति पूरी तरह से चरमरा गई है। बिजली अधिकारियों को फोन किया गया तो बताया गया कि आपूर्ति ही कम हो गई है। अगर रात में भी यही स्थिति रही तो सोना मुश्किल हो जाएगा।

अधिकारी बोले

नाथनगर क्षेत्र में दिन में 33 केवीए ब्रेकडाउन के कारण आपूर्ति बंद हुई थी। लेकिन शाम में आपूर्ति कम होने के कारण लोडशेडिंग करना पड़ रहा है। ग्रिड से पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है। उम्मीद है आपूर्ति में जल्द ही सुधार हो जाएगा।