अंगिका जोन की नंबर वन टीम भागलपुर क्वार्टर फाइनल में पहुंची;

सूर्यवंश के नाबाद 173 व कुमार गौरव राज के नाबाद 103 रनों की धुआंधार पारी की बदौलत भागलपुर ने मुंगेर को 209 रनों के विशाल अंतर से हरा दिया। हेमन ट्रॉफी के अंगिका जोन में भागलपुर नबंर वन टीम बन गई है और क्वार्टर फाइनल में पहुंच गई है।

नौ अप्रैल को पटना के मोइनुल हक स्टेडियम में अंगिका जोन की नंबर वन टीम भागलपुर का क्वार्टर फाइनल मुकाबला पाटलिपुत्र जोन की नंबर वन टीम जहानाबाद से होगा। मालूम हो कि भागलपुर की टीम 2018 से रणजी खिलाड़ी बासुकीनाथ की कप्तानी में हेमन ट्रॉफी में बिहार की नंबर वन जिला क्रिकेट टीम है। भागलपुर टीम के हेड कोच सह पूर्व रणजी खिलाड़ी मो. रहमतुल्लाह ने बताया कि भागलपुर टीम क्वार्टर फाइनल में भी अच्छा खेलेगी। बिहार क्रिकेट संघ के तत्वावधान में जिला क्रिकेट संघ द्वारा सैंडिस कंपाउंड स्टेडियम में आयोजित हेमन ट्रॉफी (अंगिका जोन) का 10वां मैच बुधवार को खेला गया। 50 ओवर के मैच का टॉस भागलपुर के कप्तान बासुकीनाथ ने जीता और पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया। भागलपुर की टीम ने 50 ओवर में 4 विकेट खोकर 344 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। सूर्यवंश ने 17 चौके व सात छक्के की मदद से नाबाद 173 रनों की शानदार शतकीय पारी खेली। वहीं कुमार गौरव राज ने भी 8 चौके व 5 छक्के की मदद से नाबाद 103 रनों की शतकीय पारी खेली। इन दोनों बल्लेबाजों ने पांचवें विकेट के लिए 276 रनों की मैच विनिंग पार्टनरशिप की। मयंक चौधरी ने पांच चौकों की मदद से 36 रनों की उपयोगी पारी खेली। गेंदबाजी में प्रशांत ने दो विकेट, अमित व गुलरेज ने क्रमशः एक-एक विकेट लिया। 345 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंगेर की टीम 45 ओवर में 135 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। शुभम व पवन ने 21-21 रन व विशाल सिंह ने 20 रन बनाए। गेंदबाजी में सचिन व भानू ने तीन-तीन विकेट लिए। गोविंदा ने दो, विवेक व शहाबुद्दीन ने एक-एक विकेट झटका। अंपायर की भूमिका बीसीए पैनल के अंपायर मनोहर (खगड़िया) व अमित रंजन (मधुबनी) ने निभाई। मैच ऑब्जर्वर बीसीए पैनल के डॉ. इंद्रजीत कुमार थे। स्कोरर धर्मजय, ऑनलाइन स्कोरर ओम झा व पिच क्यूरेटर हिमांशु रॉय थे। कॉमेंटेटर संजीव चौधरी थे। मौके पर सुबीर मुखर्जी उर्फ मामू, डॉ. जयशंकर ठाकुर, मो. फारूक आजम, बैद्यनाथ मिश्रा, मो. महताब मेहंदी, डॉ. अर्जुन कुमार, प्रणब सिंह, टुनमुन, करुण सिंह, चंदन झा आदि मौजूद थे।