कहलगांव में हाट वाले दिन पूरे रोड पर दुकानदारों का रहता है कब्जा, जाम से जूझते हैं शहरवासी;

कहलगांव। कहलगांव नगर में स्थित हाट रोड पर विभिन्न सरकारी कार्यालय, एनटीपीसी, अनुमंडल अस्पताल, न्यायालय आदि हैं। हाट के पास मुख्य मार्ग से थोड़ा हटकर अपनी जमीन भी है लेकिन पूरा हाट सड़क के किनारे ही लगता है। इसके एवज में हाट ठेकेदार इनसे बट्टी वसूल करते हैं। सड़क किनारे लगने वाली दुकानों, सब्जी विक्रेताओं को हाट के अंदर ले जाने का प्रयास नहीं किया जाता है।

इसके चलते हाट के दिन बड़े वाहन, ट्रैक्टर आदि जाने पर भीषण जाम लग जाता है। अभी तो सड़क पर ही भवन दुकान निर्माण कराने वाले गिट्टी, बालू गिराकर रखे हुए हैं। यह भी जाम लगने का मुख्य कारण है। हाट ठेकेदार जाम न लगे इसका कोई प्रयास नहीं करते हैं। प्रशासनिक अधिकारी भी जाम से रूबरू होने के बाद भी मौन रहते हैं। बुधवार को सुबह से लेकर शाम तक रह रहकर भीषण जाम लगता रहा। जाम में स्कूली बच्चे, एंबुलेंस भी घंटों फंसे रहे। पैदल आने-जाने की संधि नहीं थी।

बिहपुर प्रखंड के बभनगामा बाजार में सड़क के किनारे हाट लगता है। इसकी कई बार शिकायत भी की गई। यहां तक कि ग्रामीण इकट्ठा होकर जनता दरबार में भी पहुंच चुके हैैं। लोगों ने तत्कालीन सीओ बलिराम प्रसाद को सामूहिक हस्ताक्षरयुक्त आवेदन सौंपते हुए बताया था कि अंचल राजस्व अधिकारी द्वारा हाट की सरकारी बंदोबस्ती की जाने लगी। बहुत दिनों तक हाट उसी जमीन पर लगता रहा। बभनगामा में हाट का रकवा डेढ़ एकड़ है। कुछ ग्रामीणों ने हाट की जमीन पर घर बना लिये हैैं जिससे अब हाट सड़क के किनारे लगने लगा है।

इससे वाहनों व आमलोगों को आवागमन में बहुत परेशानी होती है। इस कारण कई बार मारपीट भी हो चुकी है। हर समय अप्रिय घटना होने की आशंका बनी रहती है। ग्रामीणों के आवेदन पर अंचलाधिकारी ने भी ध्यान नहीं दिया। उनसे ग्रामीणों ने कहा था कि हाट की अतिक्रमित जमीन को कब्जामुक्त कराकर वहीं हाट लगावाया जाय। ग्रामीणों ने बीते 20 जनवरी को सीओ इसी से संबंधित आवेदन दिया था। इसके आलोक में पदाधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर दुकानदारों को समझाया और वहां से हटने को कहा। कुछ दिन सब ठीक रहा लेकिन अब फिर से दुकानें सड़क के किनारे ही सजाई जाने लगी हैैं।