गर्मी में बिजली संकट को रहें तैयार:शहरी बाइपास पर कार्य अधूरा, इंटरनेट व टीबी केबल के कारण फंसा काम;

इस बार गर्मी के सीजन में पूर्वी क्षेत्र के उपभाेक्ताओं काे लगातार बिजली संकट का सामना करना पड़ेगा। स्मार्ट सिटी कंपनी काे शहरी बाइपास, तिलकामांझी चाैक, कचहरी चाैक और घूरनपीर बाबा चौक पर बीच सड़क पर आए पोल व तार हटाना है। साढ़े 6 करोड़ की लागत से हाेने वाले काम के लिए 12 एस्टीमेट बने हैं। इनमें फिलहाल नाै पर काम हाेना है। बिजली कंपनी ने सभी एस्टीमेट स्मार्ट सिटी कंपनी काे साैंप दिये हैं। अब उसकी एजेंसी काे यह काम पूरा करना है। बिजली कंपनी इसकी माॅनिटरिंग करेगी।

30 जून तक काम पूरा करना है। पाेल शिफ्टिंग के दाैरान राेज संबंधित इलाके की बिजली कटेगी। एक अनुमान के अनुसार काम के दाैरान राेज करीब 10 हजार की आबादी प्रभावित हाेगी। लेकिन काम की गति काफी धीमी है। काम काे शुरू हुए करीब एक माह हाे चुका है, लेकिन अब तक 10 फीसदी काम भी पूरा नहीं हाे पाया है। काम की गति यही रही ताे समय पर यह पूरा नहीं हाे पाएगा। जून में बरसात भी शुरू हाे जाएगी। इससे पूरी गर्मी में लाेगाें काे बिजली कटाैती का सामना करना पड़ेगा। हाेली के बाद केवल एक दिन कुछ काम हुआ है। शनिवार और रविवार काे भी काम रुका रहा। काम में प्लानिंग का अभाव है। पहले ताे काम काे शुरू करने में ही देर हाे गई, अब उसकी गति भी धीमी है।

मूर्ति विसर्जन मार्ग व कचहरी चौक पर अंडरग्राउंड केबल के लिए अब तक नहीं बने हैं एस्टीमेट

तिलकामांझी और घूरनपीर बाबा चाैक पर मेन लाइन से नहीं जुड़े तार

अभी केवल तिलकामांझी और घूरनपीर बाबा चाैक पर पोल और तार शिफ्टिंग का काम हुआ है, लेकिन पाेल पर केबल कंपनियाें के तार भी लगे हैं। इसलिए मेन लाइन से नहीं जाेड़ा जा सका है। करीब पांच किलाेमीटर शहरी बाइपास पर घंटाघर से आदमपुर चौक के बीच अभी काम शुरू भी नहीं हुआ है। आदमपुर चौक से खिरनी घाट होते हुए डीएम आवास तक का काम अधर में है। डीएम आवास से डीवीसी कॉलोनी व बरारी में हरिमोहन ठाकुर स्कूल से विक्रमशिला पहुंच पथ तक काम शुरू हुआ है। लेकिन काम की गति काफी धीमी है। स्मार्ट सिटी के पीआरओ पंकज कुमार का तर्क है कि होली के कारण काम में रुकावट आयी है। अंतिम जून तक काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। तिलकामांझी चौक पर शिफ्टिंग का काम पूरा कर लिया गया है। पोल हटाने में इंटरनेट केबल, टीवी केबल के साथ निजी वायर परेशानी की वजह बने हैं। इनलाेगाें काे तार हटाने के लिए कहा है।

सामाजिक संगठनों की आपत्ति पर कचहरी चौक इलाके में रुका है काम, अब यहां केबल बिछाने की तैयारी

कचहरी चौक पर लगभग 4 लाख की लागत से तार व पाेल शिफ्टिंग का काम होना है। इसके लिए तीन एस्टीमेट बना है। लेकिन सरदार पटेल समिति और कचहरी चौक स्थित मंदिर प्रशासन ने काम को रुकवा दिया है। मंदिर समिति और सरदार पटेल समिति का कहना है कि दुर्गा पूजा के समय यहां पंडालों में भीड़ रहती है। इसलिए ऊपर से तार गुजारना खतरा है। स्मार्ट सिटी कंपनी के अधिकारी ने बताया कि इस मामले को लेकर जिलाधिकारी के साथ बैठक हुई थी, जिसमें इस इलाके में केबल अंडरग्राउंड करने पर सहमति बनी है। इसलिए अब नए सिरे से एस्टीमेट तैयार कराया जाएगा।

इसके बाद कचहरी चौक के चारों तरफ-होटल पंचवटी से होटल वैभव और होटल मेफेयर से कलेक्ट्रेट ऑफिस तक अंडरग्राउंड केबल बिछाया जाएगा। विसर्जन मार्ग में भी एक किलोमीटर अंडरग्राउंड केबल को सैद्धांतिक मंजूरी मिली है। सुपरिटेंडेंट इंजीनियर गौरव पांडे ने बताया कि अभी अंडरग्राउंड केबल के लिए एस्टीमेट नहीं बनाया गया है।

जून के अंत तक काम पूरा कर लेंगे

हाेली के कारण काम की गति कम हुई है। सभी 9 एस्टीमेट का काम अंतिम जून तक पूरा करने का लक्ष्य रखा है। पोल व तार शिफ्टिंग के दाैरान लाेगाें काे परेशानी से बचाने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था करेंगे ताकि बिजली आपूर्ति बाधित न हो। -पंकज कुमार, पीआरओ, स्मार्ट सिटी