जिला विधिज्ञ संघ भागलपुर : डीबीए के अध्यक्ष बने जयकरण गुप्ता, महासचिव पद के परिणाम पर विवाद गहराया;

भागलपुर। जिला विधिज्ञ संघ चुनाव बाद मतों की गिनती में जयकरण गुप्ता और वीरेश प्रसाद मिश्रा के बीच अध्यक्ष पद पर कांटे की टक्कर में जयकरण गुप्ता ने सभी प्रत्याशियों को पछाड़ते हुए अध्यक्ष पद पर जीत का परचम लहराया। गुप्ता पूर्व में सचिव, उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं। मतगणना के दौरान महासचिव पद पर विमल कुमार विमल और मृत्युंजय सिंह के बीच रोमांचक मुकाबला हुआ और दोनों के वोट में एक-दो का अंतर होते हुए बराबरी पर चला आया था। इस बीच रविवार को तीन बार फिर से गिनती कराई गई और अंत में गिनती बंद करते हुए सोमवार को गिनती कराने का निर्देश निर्वाची पदाधिकारी विनोद यादव ने दिया।

सोमवार को महासचिव पद के मतों की हुई गिनती में विमल कुमार विमल के पक्ष में सात वोटों के सामने आने पर प्रतिद्वंद्वी प्रत्याशी मृत्युंजय सिंह ने कड़ा एतराज जताते हुए निर्वाची पदाधिकारी के नाम सहायक निर्वाची पदाधिकारी को अर्जी दे फिर से मतगणना कराने की मांग की। मृत्युंजय सिंह ने मामले की जानकारी बिहार बार काउंसिल के अध्यक्ष तक को दे दी। सोमवार को उपाध्यक्ष समेत अन्य पदों के मतों की गिनती का काम भी बंद करा दिया गया। निर्वाची पदाधिकारी विनोद यादव ने पूछे जाने पर बताया कि उन्हें सहायक निर्वाची पदाधिकारी आनंद कुमार सिंह से जानकारी मिली है कि मृत्युंजय सिंह की तरफ से तीन सदस्यीय टीम से महासचिव पद के मतों की गिनती कराने की मांग की गई है। मतों को कक्ष में सील कर उसकी चाबी निर्वाची पदाधिकारी अपने पास रख लिया है। उन्होंने कहा कि तीन सदस्यीय कमेटी से महासचिव पद के मतों की गिनती उनकी मौजूदगी में कराई जाएगी।

निर्वाची पदाधिकारी ने दावा किया कि उनकी मौजूदगी में दोनों महासचिव प्रत्याशियों के मतों की गिनती कराई गई इसलिए उसमें धोखा का कोई सवाल ही नहीं है। फिर भी एक प्रत्याशी ने सवाल उठाया है तो तीन सदस्यीय टीम से फिर से मतों की गिनती कराई जाएगी। उधर निर्वाचन कर्तव्य में लगाए गए पर्यवेक्षक अजय कुमार यादव ने महासचिव पद की मतगणना में गड़बड़ी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि जीते हुए प्रत्याशी मृत्युंजय सिंह को पराजित घोषित किया जा रहा था जिसके बाद हंगामा हुआ। उन्होंने फिर से गिनती कराए जाने की बात कही है। उक्त आरोप पर निर्वाची पदाधिकारी विनोद यादव ने कहा कि कौन क्या कहता है उसपर वह ध्यान नहीं देते। तीन सदस्यीय टीम से ही गिनती कराई जाएगी। उन्हें कोई आपत्ति नहीं है।

इधर सात मतों से आगे रहने वाले विमल कुमार विमल को उनके समर्थकों ने फूल मालाओं से लाद अबीर-गुलाल लगा कचहरी परिसर में भ्रमण कराया। महासचिव पद के लिए फिर से मतगणना और डीबीए की कार्यसमिति के अन्य पदों के लिए डाले गए मतों की गिनती मंगलवार को कराई जाएगी।