पीरपैंती के रेलवे उल्टापुल के निर्माण में देरी के खिलाफ धरना-प्रदर्शन;

पीरपैंती का अति व्यस्त एक महत्व पूर्ण रेलवे उल्टापुल संख्या 91 का निर्माण कार्य ढाई साल बाद भी पूर्ण नहीं होने के कारण क्षेत्र वासियों के सब्र का बांध टूटता जा रहा है। इसी के विरोध स्वरूप रंजित साह के नेतृत्व में बुधवार को स्टेशन परिसर में  सर्वदलीय धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया। जिसमें काफी संख्या में विभिन्न राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं एवम आम नागरिकों ने भाग लिया।

धरना को संबोधित करते हुए प्रखंड कांग्रेस अध्यक्ष सुरेंद्र कुमार सिंह, पूर्व मुखिया मोजाहीद,धनविजय सिंह, रमेश रमन, चंद्रेश्वर ओझा, चांद अली, नरेश यादव, भगवान पासवान, उमेश तांती, अमित कटारुका, पप्पू साह, अयाज, सुभाष कुशवाहा, राम कुमार यादव आदि ने कहा कि पीरपैंती के उल्टापुल संख्या 91 के निर्माण में बरती जा रही है। 12 जनवरी 2020 को जब यह पुल सुरक्षित ढंग से उड़ाया गया था तो क्षेत्रवासियों को यह भरोसा दिलाया गया था कि पुल का निर्माण कार्य तेज गति से कराया जाएगा। अधिक से अधिक एक साल में पूरा हो जाएगा। लेकिन ढाई साल बीत चुके हैं तथा अब भी पुल निर्माण आधा-अधूरा ही है। वक्ताओं ने कहा कि पुल का निर्माण 10 दिनों में पूरा नहीं होगा तो पुनः 6 जून से रेल चक्का जाम आंदोलन किया जाएगा। क्योंकि इस पुल के निर्माण नहीं होने से ढाई साल से दुकानदार, मिस्त्री, मजदूर पूरी तरह बेकार हो भुखमरी के कगार पर पहुंचते जा रहे हैं। धरना समाप्ति के बाद मालदा डीआरएम के नाम ज्ञापन स्टेशन अधीक्षक अजय कुमार को सौंपा गया।

स्टेशन अधीक्षक अजय कुमार ने बताया कि मुझे समाचार पत्रों से जानकारी मिली है कि पुल के निर्माण में आ रही दिक्कतों को देखते हुए सीआरएस से स्वीकृति मिल गई है। जबकि 24 मई से निर्माण स्थल पर मजदूर भी काम करने लगे हैं। जबकि इंजीनियर ने भी बताया है कि बहुत जल्द पुल का गार्डर चढ़ा दिया जाएगा।