महारुद्र यज्ञ को लेकर निकाली गई कलश शोभायात्रा;

सनोखर गांव में शुक्रवार से शुरू होने वाले महारूद्र यज्ञ को लेकर गुरुवार को कलशयात्रा निकाली गयी। जिसमें ग्यारह सौ कुंवारी कन्या एवं महिलाओं ने हिस्सा लिया। कलशयात्रा सनोखर हाईस्कूल से जल भरकर सनोखर का परिभ्रमण करते कलश यज्ञ मंडप शिव मंदिर परिसर पहुंच समापन हुआ। यज्ञ समिति के सदस्यों ने शांति समिति की बैठक में पारित प्रस्ताव के तहत कलश यात्रियों की परेशानी को देखते हुए जगह जगह ग्रामीणों के द्वारा मार्ग सुलभ करने की दिशा में साफ-सफाई की गयी। कलशयात्रा के दौरान धार्मिक भजन की प्रस्तुति की गयी। कार्यक्रम संबंधी जानकारी देते यज्ञ कमिटी अर्जुन केसरी ने बताया कि महारुद्र यज्ञ को लेकर गुरुवार को कलश यात्रा निकाली गई। 20 मई से हवन, प्रवचन व रासलीला का प्रतिदिन आयोजन किया जाएगा। यज्ञ स्थल पर बने विभिन्न देवी देवताओं की मूर्तियों को कलाकार अंतिम रूप देकर तैयार कर दिए हैं। यज्ञ कमेटी के सहयोग से भव्य मेला का भी आयोजन किया जा रहा है। यज्ञ कमेटी के सदस्यों ने बताया कि 28 मई को यज्ञ का समापन वैदिक विधि विधान से किया जाएगा। वहीं देर शाम आई आंधी में आयोजित यज्ञ में बने पांडाल वगैरह और मूर्तियों को क्षतिग्रस्त हो गईं। हालांकि यज्ञ पंडाल पक्की होने के वजह से यज्ञ निर्धारित समय पर शुरू होगा।