श्याम वंदना महोत्सव में झूमे श्रद्धालु;

श्री श्याम बाल मंडल कहलगांव के तत्वाधान में 30 वां वार्षिक दो दिवसीय श्री श्याम वंदना महोत्सव के दूसरे दिन रविवार को लखनऊ की विभा मिश्रा के भजन श्याम शरण में आजा रे…. हम श्याम के प्रेमी हैं श्याम पे मरते हैं….. होने नहीं देख कभी तेरी हार खाटू वाले का ऐसा है द्वार…. भजनों पर भक्त भी ठुमके लगाते रहे। कोलकाता के पंकज जोशी के तेरी गर्जन से मची खलबली बताओ हनुमान कैसे लंका जली….. हम बाबा वाले हैं….. राम जप ले रे सीता राम जप ले… शाकंभरी माता के भजन झूमते रहे भक्त.बठिंडा पंजाब से कमल नायक ने श्याम कोई नहीं है इस कलयुग में…. श्याम भजनों की अमृत वर्षा पर भक्त सराबोर होते रहे। कलाकारों द्वारा नृत्य नाटिका की भी प्रस्तुति होती रही। महोत्सव में इत्र वर्षा, पुष्प वर्षा, दिव्य श्रृंगार,फूलों की होली ,श्याम बाबा को 56 प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाया गया है। श्याम भक्तों के लिए श्याम रसोई का का लुफ्त उठाया. कार्यक्रम संचालन में अध्यक्ष मनोज संथालिया, सचिव श्याम बिहारी, बासुकी संथालिया, श्रवन चमरिया, संदीप रुंगटा आदि लगे रहे ।